• January to March 2024 Article ID: NSS8531 Impact Factor:7.60 Cite Score:878 Download: 40 DOI: https://doi.org/83 View PDf

    मध्यप्रदेश में महिला नीति एवं कल्याणकारी योजनाएं एक अध्ययन (रीवा जिले के सेमरिया तहसील के विशेष संदर्भ में)

      डॉ. अर्चना श्रीवास्तव
        सहायक प्राध्यापक, शा. महारानी लक्ष्मीबाई कन्या स्नात्कोत्तर स्वशासी महाविद्यालय,भोपाल(म.प्र.)
      मंजुला द्विवेदी
        शोधार्थी, शा. महारानी लक्ष्मीबाई कन्या स्नात्कोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, भोपाल (म.प्र.)
  • शोध सारांश- मध्य प्रदेश देश का ऐसा राज्य है जहां सबसे पहले राज्य स्तर पर महिला नीति तैयार कर क्रियान्वित की गई है, महिला नीति का अर्थ महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वावलंबी, आत्मविश्ववासी और अपनी अस्मिता के प्रति सकारात्मक सोच वाला बनाना है ताकि वे कठोर परिस्थितयों का मुकाबला करने में सक्षम हो और विकास कार्यों में भी उनकी भागीदारी हो सके। भारतीय समाज में संविधान की स्थापना में लेख किया गया है कि समतावादी प्रजातांत्रिक मूल्यों को प्राप्त करने के उदेश्य से समाज में किसी भी आधार पर लिंग, जाति, नस्ल आदि भेदभाव नहीं किया जा सकता, इसलिए लम्बे समय से महिलाओं की कमजोर परिस्थिती को मजबूत बनाने के उदेश्य से प्रथम वो महिला कल्याण कार्यों को प्रथमिकता दी गई। मध्य प्रदेश शासन का लक्ष्य महिलाओं का पूर्ण रूप से विकास एवं सशक्त बनाना है, महिला नीति की मूल अवधारणा महिलाओं के प्रति समाज की मानसिकता में सकारात्मक परिवर्तन लाना है।

    शब्द कुंजी- महिला नीति, कल्याणकारी योजनाएं, सशक्तिकरण।